Read What is Setu Bandha Sarvangasana, its Procedure, and Benefits

What Does Setu Bandha Sarvangasana/Bridge Exercise Mean:- Setubandha Sarvangasana or you can say Bride pose is one of the basic backbend postures, which is basically good for detoxification. The term is derived from the Sanskrit language setu, (bridge) bandha means lock sarva=all, anga=limb, and asana=pose.

Setu Bandha Sarvangasana Steps are as Follows?

Step-1: To enter the posture, simply lie down on the back. Along with this, let your arms rest beside your body.

Setu Bandha Sarvangasana how to do

                             Learn Smartly-How to do Setu Bandhasana

Step-2: Now, lift the hip bones toward the sky as high as possible. With knees are in line with your hips and feet on the mat.

Step-3: Tilt your chin toward your chest, it helps to lengthen your neck.

Step-4: Keep gaze forward and don’t look from left to right as this might strain the neck.

Step-5: Be in the same pose as in image given for 15 seconds to one minute and repeat it for a few minutes.

Step-6: To exit the pose, simply release the arms and lower the hips down to the floor/mat.

10 Setu Bandha Sarvangasana Benefits are as Follows:-

  1. Regular practice of this pose will help you to reduce depression, anxiety, stress, as well as calms the brain.
  2. This posture/asana helps to strengthen the muscles of the back as well as relieve the stress trapped in the back.
  3. It reduces thyroid problems and opened up lungs.
  4. It stretches and tones the neck, chest, and spine.
  5. Relieving negative emotions
  6. Promoting inner calm
  7. It helps alleviate menstrual pain and symptoms of menopause and benefits pregnant women.
  8. Blood circulation is also improves by this Yoga/ exercise’s regular practice
  9. This pose massages our digestive organs, thus helping to improve digestion.
  10. The posture helps to control high blood pressure, asthma, sinusitis, osteoporosis, and insomnia.

Precautions and Contraindications of Bridge Exercise Are As Follows:-

  1. Avoid this asana/pose, if you are suffering from a neck injury, or do it with a certified yoga instructor.
  2. Pregnant women must do it under the guidance of a yoga instructor.
  3. If you have backbone problems, then you must avoid this asana

———————————————————————————————————————————————————————

Read In Hindi

सेतु बंध आसन का क्या मतलब है और उसका लाभ क्या है?

सेटुबंध्धा सर्वसंगन या आप कह सकते हैं कि ब्रिज पॉज़ मूल बैकेंड पोटेंशन्स में से एक है, जो मूल रूप से detoxification के लिए अच्छा है। शब्द संस्कृत भाषा सेतु, (पुल) बंदा से लिया गया है|

  

सेतुबंधासन/Setu Bandha Sarvangasana व्यायाम प्रक्रिया क्या है?

  1. यहयोग करने के लिए, शुरुआत में अपने पीठ के बल लेट जाएँ  अपने शरीर के पास अपने हाथों को आराम दें।
  2. अपने घुटनो को मोड़ लें| अब दोनों पैरों को एक दुसरे से 10-12 इंच दूर रखते हुए घुटनो और पैरों को एक सीध में रखते हुए फैला ले|
  3. हथेलियाँ ज़मीन पर रहे साथ ही साथ हाथों को शरीर के साथ रख ले|
  4. साँस लेते हुए, धीरे धीरे कूल्हों को उपर उठायें|
  5. धीरे से अपने कन्धों को अंदर की ओर लें इसके साथ बिना ठोड़ी को हिलाये अपनी छाती को अपनी ठोड़ी के साथ लगाएँ और हाथों व पैरों को अपने वज़न का सहारा दें|
  6. चाहें तो आप अपने हाथों को ज़मीन पर दबाते हुए शरीर के ऊपरी हिस्से को उठा सकते हैं|
  7. आसन को 1-3 मिनट बनाएँ रखें और साँस छोड़ते हुए आसन से बहार आ जाएँ|

सेतुबंधासन के लाभ | Benefits of the Setu Bandha Sarvangasana

  1. इस मुद्रा की नियमित अभ्यास आपको अवसाद, चिंता, तनाव को कम करने और साथ ही मस्तिष्क को शांत करने में मदद करेगा।
  2. इस आसन / आसन पीठ की मांसपेशियों को मजबूत करने और साथ ही पीठ में फंसे तनाव को दूर करने में मदद करता है।
  3. यह थायरॉयड की समस्याओं को कम करता है और फेफड़ों को खोला जाता है।
  4. यह गर्दन, छाती और रीढ़ की हड्डी को बढ़ाता है और टोन करता है।
  5. नकारात्मक भावनाओं से राहत
  6. आंतरिक शांत को बढ़ावा देना
  7. यह मासिक धर्म के मासिक धर्म के दर्द और लक्षणों को कम करने और गर्भवती महिलाओं के लाभों को कम करने में मदद करता है।
  8. इस योग / व्यायाम के नियमित अभ्यास से रक्त परिसंचरण भी बेहतर होता है
  9. यह हमारे पाचन अंग मालिश करता है, इस प्रकार पाचन सुधारने में मदद करता है।
  10. आसन उच्च रक्तचाप, अस्थमा, साइनसिसिस, ऑस्टियोपोरोसिस और अनिद्रा को नियंत्रित करने में मदद करता है।

ब्रिज व्यायाम की सावधानियां और मतभेद निम्नानुसार हैं: –

  1. इस आसन / मुद्रा से बचें, यदि आप गर्दन की चोट से पीड़ित हैं, या प्रमाणित योग प्रशिक्षक के साथ करो।
  2. गर्भवती महिलाओं को यह योग प्रशिक्षक के मार्गदर्शन में करना चाहिए।
  3. यदि आपके पास रीढ़ की हड्डी की समस्या है, तो आपको इस आसन से बचना चाहिए

 

Nisha Chauhan

Nisha Chauhan is a Technical writer since five years and working for learnsmartly.org that is a website to sort out technical issues in the smartest way. Her passion for making people self-learner keeps her self-motivated to write effective blogs. She has deep expertise in the topics she covers along with an undeniable passion to help the novice or learners who need reliable help and information with their technology, software, and social sites instantly.

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *